प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जारी की PM KISAN Yojana की 8वीं किस्त

0
184

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि ([पीएम-किसान)] योजना के तहत किसानों को मिलने वाले वित्तीय लाभों की आठवीं किस्त जारी की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत दिए जाने वाले वित्तीय लाभ की 8वीं किस्त जारी की। इसके साथ ही आज देश में 9.5 करोड़ से ज्यादा लाभार्थी किसान परिवारों को 19 हजार करोड़ रुपये से अधिक की राशि ट्रांसफर हो गई।

ऊर्जा निगम के प्रतिनिधि संगठन ने मुख्‍यमंत्री से की भेंट 

इस दौरान आज पीएम मोदी ने देश के किसानों से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना काल में किसानों को दी गई सहायता राशि, भारत में कोरोना की दूसरी लहर और देश में जारी टीकाकरण को लेकर भी बात की।

पीएम मोदी ने किया किसानों से संवाद

पीएम मोदी ने इस अवसर पर उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, मेघालय, जम्मू और कश्मीर जैसे पांच राज्यों के किसानों से भी बातचीत की।इस मौके पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज बहुत ही चुनौतीपूर्ण समय में हम ये संवाद कर रहे हैं। इस कोरोना काल में भी देश के किसानों ने हमारे कृषि क्षेत्र में अपने दायित्व को निभाते हुए अन्न की रिकॉर्ड पैदावार की है। पीएम मोदी ने साथ ही कहा कि आज अक्षय तृतीया का पावन पर्व है, कृषि के नए चक्र की शुरुआत का समय है और आज ही करीब 19 हजार करोड़ रुपये किसानों के बैंक खातों में सीधे ट्रांसफर किए गए हैं।इसका लाभ करीब-करीब 10 करोड़ किसानों को होगा।

पश्चिम बंगाल राज्य के 7 लाख से अधिक किसानों को योजना का लाभ

पीएम मोदी ने आगे कहा कि आज बंगाल के लाखों किसानों को पहली किस्त पहुंची है। जैसे-जैसे राज्यों से किसानों के नाम केंद्र सरकार को मिलेंगे, वैसे-वैसे लाभार्थी किसानों की संख्या और बढ़ती जाएगी। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, जो इस अवसर पर उपस्थित थे, उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल राज्य के 7 लाख से अधिक किसानों को योजना का लाभ मिला है। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि अभी तक इस योजना के तहत देश के लगभग 11 करोड़ किसानों के पास करीब 1 लाख 35 हजार करोड़ रुपये पहुंच चुके हैं। इनमें से सिर्फ कोरोना काल में ही 60 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा पहुंचे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि इस वर्ष, अभी तक बीते वर्ष की तुलना में लगभग 10% अधिक गेहूं MSP पर खरीदा जा चुका है।अभी तक गेहूं की खरीद का लगभग 58,000 करोड़ रुपए सीधे किसानों के खाते में पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि मुझे संतोष है कि पंजाब और हरियाणा के लाखों किसान डायरेक्ट ट्रांसफर की इस सुविधा से जुड़े हैं। अभी तक पंजाब के किसानों के बैंक खातों में करीब 18,000 करोड़ रुपये और हरियाणा के किसानों के बैंक खातों में करीब 9,000 करोड़ रुपये सीधे जमा हो चुके हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि खेती में नए समाधान, नए विकल्प देने के लिए सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। जैविक खेती को बढ़ावा देना ऐसे ही प्रयास हैं। इस प्रकार की फसलों में लागत भी कम है, ये मिट्टी और इंसान के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं और इनकी कीमत भी ज्यादा मिलती है। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार की ये निरंतर कोशिश है कि छोटे और सीमांत किसानों को बैंकों से सस्ता और आसान ऋण मिले। इसके लिए बीते डेढ़ साल से किसान क्रेडिट कार्ड उपलब्ध करने का अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान 2 करोड़ से ज्यादा किसान क्रेडिट कार्ड जारी किए गए हैं।

भारत दुनिया कि सबसे बड़ी मुफ्त राशन की योजना चला रहा

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में भारत दुनिया कि सबसे बड़ी मुफ्त राशन की योजना चला रहा है। पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से पिछले वर्ष 8 महीने तक गरीबों को मुफ्त राशन दिया गया था। इस बार मई और जून में देश के 80 करोड़ से ज्यादा साथियों को राशन मिले, इसका प्रबंध किया गया है।

कोरोना की दूसरी लहर पर भी बोले पीएम मोदी

उन्होंने कहा कि 100 साल बाद आई इतनी भीषण महामारी कदम-कदम पर दुनिया की परीक्षा ले रही है। हमारे सामने एक अदृश्य दुश्मन है।बीते कुछ समय से जो कष्ट देशवासियों ने सहा है,अनेकों लोग जिस दर्द से गुजरे हैं, तकलीफ से गुजरे हैं, वो मैं भी उतना ही महसूस कर रहा हूं।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि

देश का प्रधानसेवक होने के नाते आपकी हर भावना का मैं सहभागी हूं। कोरोना की सेकंड वेव से मुकाबले में संसाधनों से जुड़े जो भी गतिरोध थे, वो तेजी से दूर किये जा रहे हैं, युद्ध स्तर पर काम करने का प्रयास हो रहा है। देश के डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, सफाई कर्मी, एंबुलेंस ड्राइवर, लैब कर्मचारी, ये सभी एक-एक जीवन को बचाने के लिए 24 घंटे जुटे हैं। आज देश में जरूरी दवाओं की आपूर्ति बढ़ाने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है। ऑक्सीजन रेल ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई को बहुत बड़ी ताकत दी है।देश के दूर सुदूर हिस्सों में ये स्पेशल ट्रेन ऑक्सीजन पहुंचने में जुटी हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस संकट के समय में दवाएं और जरूरी वस्तुओं की जमाखोरी और कालाबाजारी में भी कुछ लोग लगे हैं। मैं राज्य सरकारों से आग्रह करूंगा कि ऐसे लोगों पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जाए। ये मानवता के खिलाफ कार्य है।

टीकाकरण पर भी बोले पीएम मोदी

इस दौरान उन्होंने कहा कि बचाव का एक बहुत बड़ा माध्यम है, कोरोना का टीका। केंद्र सरकार और सारी राज्य सरकारें मिलकर ये निरंतर प्रयास कर रही हैं कि ज्यादा से ज्यादा देशवासियों को तेजी से टीका लग पाए।देशभर में अभी तक करीब 18 करोड़ वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। देशभर के सरकारी अस्पतालों में मुफ्त टीकाकरण किया जा रहा है। इसलिए जब भी आपकी बारी आए तो टीका जरूर लगवाएं। ये टीका हमें कोरोना के विरुद्ध सुरक्षा कवच देगा, गंभीर बीमारी की आशंका को कम करेगा। मास्क और दो गज की दूरी के मंत्र को हमें छोड़ना नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज के इस कार्यक्रम में मैं देश के सभी किसानों को, गांव में रहने वाले सभी लोगों को कोरोना से फिर सतर्क करना चाहता हूं। ये संक्रमण गांवों में भी तेजी से पहुंच रहा है, केंद्र सरकार इससे निपटने के लिये हरसंभव प्रयास कर रही है।

क्या है पीएम किसान योजना के तहत लाभ ?

पीएम-किसान योजना के तहत पात्र किसान परिवारों को प्रतिवर्ष 6,000 रुपये की वित्तीय मदद उपलब्ध कराई जाती है जिसका भुगतान 2,000 रुपये की तीन किस्तों में किया जाता है। इस राशि को सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में स्थानांतरित किया जाता है। योजना के तहत अभी तक किसान परिवारों को 1.15 लाख करोड़ रुपये की धनराशि स्थानांतरित की जा चुकी है।

बता दें कि केंद्र सरकार ने छोटे और सीमांत किसानों को आर्थिक सहायता देने के लिए यह योजना चलाई है। देश के किसानों की आमदनी ब़़ढाने के लिए शुरू की गई इस योजना के तहत केंद्र सरकार हर वित्त वर्ष में किसानों के खातों में 6,000 रुपये की रकम भेजती है। यह रकम तीन बराबर किस्त में किसानों के खातों में भेजी जाती है। अब तक किसानों को 2,000 रुपये की सात किस्तें मिल चुकी हैं।

कोरोना से मुकाबले के लिए विपक्षी नेताओं ने PM को लिखा पत्र

LEAVE A REPLY