भारतीय किसान यूनियन राकेश टिकैत ने फिर दिए 2 बड़े बयान

0
263

नोएडा। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों की पूरी तरह से रद करने की मांग को लेकर सिंघु, टीकरी, शाहजहांपुर और यूपी बॉर्डर पर चल रहा किसानों का आंदोलन 7 महीने बाद भी जारी है। चारों बॉर्डर पर सैकड़ों की संख्या में किसान प्रदर्शन जुटे हैं और उनका कहना है कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के पूरी तरह रद नहीं होने तक वह यहां पर डटे रहेंगे।राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के 2 बड़े बयान यह बता रहे हैं किउधर, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के 2 बड़े बयान यह बता रहे हैं कि फिलहाल आंदोलन जारी रहेगा। पहले बयान में उन्होंने कहा है कि यूपी समेत अन्य राज्यों में भी एक अगस्त से प्रदेश में बड़ा आंदोलन होगा।

प्रधानमंत्री ने आक्सीजन के स्टॉक में वृद्धि को लेकर की बैठक

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बातचीत के प्रस्ताव पर राकेश टिकैत ने दो टूक कहा है कि

वहीं, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बातचीत के प्रस्ताव पर राकेश टिकैत ने दो टूक कहा है कि कृषि मंत्री फिर से बातचीत के लिए शर्तें लगा रहे हैं, जो संयुक्त किसान मोर्चा समेत अन्य किसान संगठनों को मंजूर नहीं है।

देशभर में पेट्रोल डीजल और रसोई गैस के दामों में बेतहाशा वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर में पेट्रोल डीजल और रसोई गैस के दामों में बेतहाशा वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन किया। वहीं, कृषि कानून विरोधी प्रदर्शनकारियों ने बृहस्पतिवार को यूपी गेट पर महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया। सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक सड़क के किनारे रसोई गैस सिलेंडर रखकर विरोध जताया। वहीं भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने संगठन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि एक अगस्त से सीमा के साथ प्रदेशभर में आंदोलन चलेगा। राकेश टिकैत ने कहा कि 11 जुलाई से मंडलवार बैठक कर तैयारी होगी। एक अगस्त से प्रदेश में बड़ा आंदोलन होगा।

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि

इस बीच भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत के ताजा बयान से जाहिर है कि गतिरोध जल्‍द खत्‍म होने वाला नहीं है। दरअसल, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की ओर से वार्ता की पेशकश करने के सवाल पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि कृषि मंत्री फिर से बातचीत के लिए शर्तें लगा रहे हैं। मंत्री शर्तों के साथ किसानों को बातचीत के लिए बुला रहे हैं। जब सरकार पहले ही कह रही है कि नए कृषि कानून ख़त्म नहीं होंगे उनमें बदलाव होगा। ऐसे में यदि सरकार को बात करनी है तो बात करे लेकिन शर्त के साथ किसानों के साथ बात ना करे। सरकार के लोग जैसा कहेंगे किसान उस पर चले ऐसा नहीं है।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में भी हुआ प्रदर्शन

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसानों ने जगह-जगह प्रदर्शन किया। सब रजिस्ट्रार कार्यालय जेवर, यमुना एक्सप्रेस वे जीरो प्वाइट, एनएच 58 जीटो रोड नई बस्ती, महामाया फ्लाईओवर नोएडा आदि स्थानों पर किसान गैस सिलेंडर लेकर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे। संगठन के मीडिया प्रभारी सुनील प्रधान ने बताया कि लोग कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं। महामारी के कारण आर्थिक संकट गहरा गया है। लोगों की नौकरी व व्यापार ठप है। काम धंधे बंद हैं। बेरोजगारी बढ़ गई है। दूसरी तरह देश में महंगाई इतनी बढ़ गई है कि लोगों को अपने घर का चूल्हा चलाना भी मुश्किल हो गया है।

प्रदर्शनकारियों में अनित कसाना, विनोद शर्मा, अंकुर शर्मा, बिरम शर्मा, जगदीश कुमार, धर्मपाल स्वामी, भिखारी प्रधान, सूबे राम मास्टर, गुरप्रीत सिंह, सुनील प्रधान, इंदरीश, देवेंद्र, अजीत, पंकज, राहुल भाटी, खुर्शीद, पर¨वदर अवाना, विपिन प्रधान, योगी नंबरदार, बबली भाटी, पवन, ललित, जयराम मुखिया, महेश खटाना, बलबीर अंबावता, शमशाद सैफी आदि शामिल रहे।

विकास विभाग मंत्री ने ग्राम्य विकास योजनाओं में तेजी लाने के दिये निर्देश

Leave a Reply