यशवर्धन कुमार सिन्हा बने देश के नए सीआइसी

0
263

नई दिल्ली। सूचना आयुक्त यशवर्धन कुमार सिन्हा देश के नए मुख्य सूचना आयुक्त (सीआइसी) बन गए हैं। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में आज उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। सूचना आयुक्त यशवर्धन कुमार सिन्हा भारतीय विदेश सेवा के पूर्व अधिकारी रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि पत्रकार उदय महुरकर, पूर्व श्रम सचिव हीरा लाल समारिया और पूर्व उप नियंत्रक और महालेखा परीक्षक सरोज पुनहानी को सूचना आयुक्त बनाया गया है।

स्कूल खोले जाएं या नहीं? देश के ज्यादातर राज्य जूझ रहे हैं इस सवाल से

62 साल के सिन्हा का कार्यकाल करीब तीन साल का होगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय समिति ने इन लोगों का चयन किया था। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी और गृह मंत्री अमित शाह इस समिति के सदस्य हैं। ब्रिटेन और श्रीलंका में भारतीय उच्चायुक्त रहे सिन्हा पिछले साल एक जनवरी को सूचना आयुक्त बने थे। सीआइसी के रूप में बिमल जुल्का का कार्यकाल 26 अगस्त को पूरा हुआ था, तब से यह पद खाली था। 62 साल के सिन्हा का कार्यकाल करीब तीन साल का होगा। सीआइसी या सूचना आयुक्तों की नियुक्ति पांच साल या उनके 65 साल की उम्र के होने तक के लिए होती है।

बिमल जुल्का द्वारा 26 अगस्त को अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद दो महीने से यह पद खाली पड़ा हुआ था। माहुरकर, समारिया और पुन्हानी के शामिल होने से सूचना आयुक्त की ताकत सात हो जाएगी। वर्तमान में केंद्रीय सूचना आयोग में 10 के स्वीकृत शक्ति के खिलाफ चार सूचना आयुक्त हैं – वनजा एन सरना, नीरज कुमार गुप्ता, सुरेश चंद्र और अमिता पांडोव।

माहुरकर ने एक प्रमुख मीडिया हाउस के साथ वरिष्ठ उप संपादक के रूप में काम किया है। उन्होंने गुजरात के महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय से भारतीय इतिहास, संस्कृति और पुरातत्व में स्नातक किया है। सामरिया, तेलंगाना कैडर के 1985-बैच के आईएएस अधिकारी, सितंबर में श्रम और रोजगार मंत्रालय के सचिव के रूप में रिटायर हुए। पुन्हानी, 1984 बैच के एक भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा (IAAS) अधिकारी, भारत सरकार में उप नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (मानव संसाधन और प्रशिक्षण) के रूप में कार्य किया।

उत्तराखण्ड रत्न से सम्मानित किया गया 16 विभूतियों को

LEAVE A REPLY