Cabinet committee on security: की अफगानिस्तान को लेकर बैठक

0
91

नई दिल्‍ली। Cabinet committee on security: अफगानिस्तान के हालात को लेकर पीएम आवास पर मंगलवार को सात लोक कल्‍याण मार्ग (LKM) पर बड़ी बैठक हुुुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण और एनएसए अजित डोभाल मौजूद रहे। सूत्रों के अनुसार कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (Cabinet committee on security) की बैठक अफगानिस्तान को लेकर बैठक थी। सूत्रों ने बताया कि बैठक में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के अलावा अफगानिस्तान में भारत के राजदूत रुद्रेंन्द्र टंडन भी मौजूद रहे, जो आज ही वायुसेना के विमान से भारत लौटे हैं।

Defense Minister Bhatt: ने कहा, अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों के लिए सरकार सजग

अफगानिस्तान में पैदा हुए हालात की पूरी तस्वीर पीएम के सामने पेश की

सूत्रों ने बताया है कि बैठक में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चल रहे विमर्श और तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान में पैदा हुए हालात की पूरी तस्वीर पीएम के सामने पेश की गई है। विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने भारतीय कूटनीति के समक्ष चुनौतियों और संभावनाओं का ब्योरा पेश किया। माना जा रहा है कि तालिबान के सत्ता में आने के बाद देश की पश्चिमी सीमा (खास तौर पर जम्मू-कश्मीर के संदर्भ में) को लेकर उत्पन्न चुनौतियों की भी इस बैठक में समीक्षा की गई है।

सूत्रों के अनुसार, अफगानिस्‍तान स्थिति को लेकर पीएम लगातार अधिकारियों के संपर्क में हैं। वह देर रात तक स्थिति का जायजा ले रहे थे और जब फ्लाइट ने उड़ान भरी तो उन्हें अपडेट किया गया। उन्होंने निर्देश दिए कि जामनगर लौटने वाले सभी लोगों के लिए भोजन सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि आने वाले दिनों में अफ़ग़ानिस्तान से भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकालना सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाएं। पीएम मोदी ने कहा कि भारत आने वाले हिंदू और सिख अल्‍पसंख्‍यकों को शरण दी जाएगी।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे से पैदा हुई परिस्थितियों के बीच भारतीय राजदूत और दूतावास कर्मचारियों सहित 120 भारतीयों को लेकर वायुसेना का ग्लोबमास्टर हिंडन एयरबेस पहुंच चुका है। अफगानिस्‍तान के राजदूत रुद्रेन्द्र टंडन ने कहा कि अब भी राजधानी काबुल में कुछ भारतीय हैं। एयर इंडिया वहां के हवाई अड्डे के चालू रहने तक व्यावसायिक सेवाए चालू रखेगा।

काबुल स्थित भारतीय दूतावास के कर्मियों के साथ भारत लौटे राजदूत

काबुल स्थित भारतीय दूतावास के कर्मियों के साथ भारत लौटे राजदूत ने असामान्य परिस्थितियों में भी उन्हें और अन्य को स्वदेश वापस लाने के लिए वायुसेना के प्रति आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की स्थिति पर उच्चतम स्तर से लगातार नजर रखी जा रही है और इसी के आधार पर उन्हें और अन्य भारतियों को वहां से वापस लाने की कार्रवाई की गई। अफगानिस्तान में आईटीबीपी के जवानों के कमांडिंग ऑफिसर रविकांत गौतम ने कहा कि अफगानिस्तान में स्थिति खराब है लेकिन हम अपने लोगों को सफलतापूर्वक निकालने में कामयाब रहे, जो हम सभी के लिए गर्व की बात है। हमारे सैनिक 3-4 दिन से नहीं सोए हैं। हम आज रात आराम से सोएंगे।

Free test plan: का सीएम पुष्कर सिंह धामी ने की शुरुआत

Leave a Reply