National List of Essential Medicines: जरूरी दवाओं की लिस्ट से हटे 26 नाम

नई दिल्ली। National List of Essential Medicines:  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को संशोधित NLEM (National List of Essential Medicines) लिस्ट जारी की। इसमें 27 कैटेगरी की 384 दवाओं में से कुछ दवाओं को हटा दिया गया है। इनमें एसिडिटी के लिए लिया जाने वाला रैनिटिडाइन (ranitidine) है जो रेनटैक (Rantac) ब्रांड के तहत बाजार में उपलब्ध है। इसके साथ जिनटैक (Zinetac) और एसिलाक (Aciloc) भी है। इन्हें कैंसर के कारण होने के संदेह में हटाया गया है।

CM visit Doon Hospital: मुख्यमंत्री धामी ने दून अस्पताल का किया औचक निरीक्षण

जुड़ी 34 नई दवाएं और हटाई गईं 26

देश में जरूरी दवाइयों की लिस्ट 2022 में 384 नामों को जगह दी गई है। इसे केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ( Mansukh Mandaviya) ने मंगलवार को जारी किया है। इस लिस्ट में 34 नई दवाइयों के नाम जोड़े गए हैं। साथ ही पुरानी लिस्ट से 26 नामों को हटा दिया गया है। इन दवाइयों को 27 कैटेगरी में विभाजित किया गया है। NLEM 2022 में विशेषज्ञों के साथ विचार कर संशोधन किया गया है।

लिस्ट में जुड़ने के बाद सस्ती हो जाएंगी दवाएं

34 ड्रगो जिसमें संक्रमणरोधी जैसे आइवरमेक्टिन (Ivermectin), म्यूपिरोसिन (Mupirocin) और निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरैपी हैं, इन्हें लिस्ट में जोड़ा गया है। अनेकों एंटीबायटिक, वैक्सीन व कैंसर रोधी दवाएं इसमें शामिल की गई हैं। बता दें कि इस लिस्ट में शामिल होने से ये दवाएं किफायती हो जाएंगी। वहीं 26 दवाएं जैसे रेनिटिडिन, सुक्रलफेट, व्हाइट पेट्रोलैटम, एटिनोलोल व मिथाइलडोपा को संशोधित लिस्ट से हटा दिया गया है।

SNCM के वाइस चेयरमैन डा. वाइ के गुप्ता ने बताया, ‘एंटीइंफेक्टिव दवाएं जैसे आइवरमेक्टिन, मोरोपेनेम, सेफ्यूरोक्जिम, एमिकासिन, बेडाक्विलिन, डेलामानिड, इट्राकोनाजोल को लिस्ट में जगह मिली है।’ NLEM में सूचीबद्ध की गई दवाइयों की कीमतें नेशनल फर्मास्यूटिकल्स प्राइसिंग अथारिटी तय करती है।

सबको दवाई सस्ती दवाई

जरूरी दवाइयों की लिस्ट जारी करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘सबको दवाई सस्ती दवाई के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के निर्देशों के तहत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कई कदम उठाए हैं। इसके लिए NLEM की अहम भूमिका होती है। यह हेल्थकेयर के सभी स्तरों पर किफायती दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराती है।

India China Border: पूर्वी लद्दाख में PP-15 से पीछे हटीं चीन और भारत की सेनाएं

Leave a Reply