दिल्ली के इंजीनियर ने इंदौर में परिवार सहित की आत्महत्या, होटल के कमरे में बरामद हुआ ये सामान

0
497

इंदौर,मध्य प्रदेश में इंदौर के समीप खुड़ैल क्षेत्र स्थित वाटर पार्क में सॉफ्टवेयर इंजीनियर, उनकी पत्नी और दो जुड़वां बच्चों के शव मिले हैं। दंपती एक दिन पहले ही बच्चों के साथ वहां घूमने गया था। गुरुवार देर शाम तक जब कमरे का दरवाजा नहीं खुला तो वाटर पार्क प्रबंधन ने दूसरी चाबी से दरवाजा खोला। भीतर सभी के शव पड़े थे।

KCB 11: दिल्ली की दिव्या ने जीता 25 लाख, कभी रहना पड़ा था कई दिनों तक बेघर

पुलिस के अनुसार, डीबी सिटी में रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभिषेक सक्सेना (45), पत्नी प्रीति सक्सेना (42), उनके जुड़वां बच्चे अद्वैत (14) और अनन्या (14) के शव क्रिसेंट वाटर पार्क के कमरे में मिले। दंपती ने ऑनलाइन रूम बुक करवाया था। थाना प्रभारी रूपेश दुबे के अनुसार, परिवार ने बुधवार रात दस बजे अंतिम बार पानी की बोतल मंगवाई थी। उसके बाद से न कमरे से कोई बाहर आया और न ही कुछ मंगवाया। शवों के पास जहरीला पदार्थ रखा मिला। अनुमान है कि यही पदार्थ खाने से उनकी मौत हुई होगी।

थाना प्रभारी रूपेश दुबे के अनुसार

आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। शवों के पैर और हाथ के नाखून भी नीले पड़ गए थे। दुबे ने बताया कि शवों के पास एक छोटा तराजू भी मिला है। आमतौर पर इस तरह के तराजू का इस्तेमाल सोना-चांदी तौलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आशंका है कि इसी तराजू से जहरीला पदार्थ तौलकर सभी को डोज दिया गया।

कल है पिता का श्राद्ध

अभिषेक के मामा की बेटी संध्या सक्सेना ने बताया कि हादसे की खबर मिलने के बाद वह दिल्ली से इंदौर पहुंची। उसने बुधवार रात आठ बजे प्रीति व उनके दोनों बच्चों से बात की थी, सभी खुश थे। अभिषेक ने कहा था कि वह शुक्रवार को लौटेगा, क्योंकि 28 सितंबर को पिताजी का श्राद्ध है। उनके घर का काम करने वाली सुलोचना ने बताया कि अभिषेक और उनका परिवार 82 वर्षीय मां सरोज के साथ महालक्ष्मी नगर स्थित डीबी सिटी में रहता है। दिल्ली से यहां आकर चार साल से किराए का फ्लैट लेकर रह रहे थे। उनके घर में कभी लड़ाई-झगड़े जैसी बात नहीं थी और न ही कभी रुपयों को लेकर विवाद होता था। अभिषेक पत्नी व बच्चों को लेकर बुधवार दोपहर दो बजे निकले थे। अभिषेक की दो बहने रचना और वंदना हैं, जो दिल्ली में रहती हैं। इसके अलावा परिवार में और कोई भी नहीं है।

अमेजन कंपनी में कार्यरत थी पत्नी

डीबी सिटी के 803 नंबर फ्लैट निवासी अनिल ने बताया कि अभिषेक पलासिया स्थित आइटी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था और पत्नी अमेजन कंपनी में नौकरी करती थी। दोनों सुबह से शाम तक बाहर ही रहते थे।

पुणे: भारी बारिश और बाढ़ की वजह से यहां की पांच तहसीलों में स्कूल और कॉलेज बंद

LEAVE A REPLY