सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वायरस को लेकर की उच्च स्तरीय बैठक

0
534

लखनऊ। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का संक्रमण एक बार फिर से गति पकड़ चुका है। उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसकी गंभीरता को देखते हुए कक्षा आठ तक के सभी सरकारी तथा निजी स्कूलों को 11 अप्रैल तक बंद रखने का निर्देश जारी कर दिया है।

सरकार ने एमपी के चार शहरों में लॉकडाउन लगाने का किया फैसला

कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उच्च स्तरीय बैठक

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर कोर टीम के साथ कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर उच्च स्तरीय बैठक की। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के साथ मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी तथा डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी भी अन्य अधिकारियों के साथ मौजूद थे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि इस दौरान शिक्षकों का स्कूलों में आना अनिवार्य होगा। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में अधिकारी तय करें कि कक्षा नौ से 12 तक की शिक्षा ग्रहण कर रहे बच्चों के स्कूल में आगमन के दौरान स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल का सख़्ती से पालन हो। अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर स्कूल के खिलाफ कार्रवाई करने में जरा भी संकोच न करें।

सीएमएस में नया शैक्षिक सत्र पांच से, ऑनलाइन होगी पढ़ाई

सिटी मोन्टेसरी स्कूल के सभी कैम्पसों में प्री-प्राइमरी, प्राइमरी एवं जूनियर कक्षाओं (मान्टेसरी से लेकर कक्षा-8 तक) का नया सत्र 5 अप्रैल, सोमवार से शुरू होगा। नये सत्र में मोन्टेसरी, नर्सरी, केजी, कक्षा 1 एवं 2 और कक्षा-3 से कक्षा-8 तक पढ़ाई 14 अप्रैल तक ऑनलाइन करायी जायेगी एवं इसके उपरान्त प्रदेश सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक ऑफलाइन कक्षाएं प्रारम्भ की जायेंगी। उक्त जानकारी सीएमएस के जन-सम्पर्क अधिकारी श्री ऋषि खन्ना ने दी है। उन्‍होंने बताया कि इसके अलावा, कक्षा 9 से 12 तक की वार्षिक परीक्षायें कोविड मानकों के सख्त परिपालन के साथ पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक ऑफलाइन चलती रहेंगी। छात्रों की शिक्षा लगातार सुचारू रूप से जारी रखने एवं छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीएमएस प्रबन्धन द्वारा मान्टेसरी से लेकर कक्षा-8 तक के छात्रों की वार्षिक परीक्षाएं स्थगित कर पूर्व असेसमेन्ट के आधार पर अगली कक्षाओं में प्रोन्नत किया गया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने आवास पर समीक्षा बैठक में कहा कि

होली के पर्व के अवकाश के बाद प्रदेश सरकार ने कक्षा आठ तक के सभी स्कूलों में चार अप्रैल तक अवकाश घोषित किया था। अब इस अवधि को 11 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के फिर से बढ़ते मामलों ने मुश्किलें बढ़ा दी हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने आवास पर समीक्षा बैठक में कहा कि कोरोना वायरस के हर संदिग्ध मामलों में आरटी-पीसीआर जांच अनिवार्य रूप से किया जाए। उन्होंने कहा कि समूहों में संचालित संस्थानों, बालिका संरक्षण गृह, वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम, आदि में टेस्टिंग प्राथमिकता पर की जाए। सीएम योगी आदित्यनाथ ने शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में निगरानी समितियों को भी पूरी तरह से सक्रिय करने के निर्देश दिए हैं। संक्रमण की निगरानी के लिए सीएम ने हर वार्ड और गांव में निगरानी समिति के गठन के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के संबंध में लगातार लोगों को जागरूक करने के लिए जागरुकता अभियान चलाया जाए। सार्वजनिक कार्यक्रमों में फिजिजल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित कराया जाए और हर जगह पर मास्क के अनिवार्य उपयोग पर विशेष ध्यान देना अनिवार्य हो।

11 तक बंद रहेंगे एक से 12 तक प्राइवेट व मिशनरी स्कूल

लखनऊ अनेटेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने भी कोरोना वायरस संक्रमण के कारण कक्षा एक से 12 तक के सभी प्राइवेट और मिशनरी स्कूल-कॉलेज 11 अप्रैल तक पूरी तरह बंद करने का ऐलान कर दिया है। इसके तहत एसोसिएशन से संबद्ध लखनऊ सहित सीतापुर, हरदोई, वाराणसी, लखीमपुर में सभी प्राइवेट और मिशनरी स्कूल बंद रहेंगे। प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने बताया कि हमारी एसोसिएशन से सभी विद्यालयों से बात हो गई है जो भी हमारे एसोसिएशन से जुड़े विद्यालय हैं चाहे वह सीतापुर, लखीमपुर, वाराणसी, हरदोई या फिर राजधानी लखनऊ के हों, उन्होंने इस फैसले का स्वागत किया है।

प्राइवेट विद्यालय या मिशनरी विद्यालय पूर्णतया 11 अप्रैल तक बंद

इसके साथ ही कक्षा एक से कक्षा 12 तक के सभी बोर्ड के प्राइवेट विद्यालय या मिशनरी विद्यालय पूर्णतया 11 अप्रैल तक बंद रहेंगे। पठन-पाठन का सभी कार्य ऑनलाइन होगा। विद्यालयों को पूर्णतया सैनिटाइज कराने की जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन की होगी। शिक्षकों को विद्यालय में आकर परीक्षा संबंधी जो भी कार्य बचे हुए हैं, उसको करना होगा। जिन विद्यालयों में परीक्षा संबंधी कार्य चल रहा है, वहां अभिभावकों की अनुमति से विद्यालय छात्र-छात्राओं की परीक्षाएं कराएंगे।

संवैधानिक पदों पर नियुक्त दायित्वधारियों की सेवाएं रहेंगी जारी

Leave a Reply