कोवैैक्सीन को मिल सकती है आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी

0
231

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन जल्द ही भारत बायोटेक की कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) के लिए आपातकालीन मंजूरी पर अहम फैसला लेने वाला है। संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन (Soumya Swaminathan) ने बताया कि कोवैक्सीन के इस्तेमाल के लिए मंजूरी आगामी 4-6 हफ्तों में दे दी जाएगी।

अमित सिन्हा बने उत्तराखंड आइपीएस एसोसिएशन के अध्यक्ष

CSE द्वारा शुक्रवार को आयोजित वेबिनार में स्वामीनाथन ने कहा कि

भारत बायोटक अब पोर्टल पर वैक्सीन का पूरा डाटा अपलोड कर रहा है जिसकी जांच कर WHO कोवैक्सीन की समीक्षा कर रहा है। WHO के दिशानिर्देशों के अनुसार, EUL प्रक्रिया के तहत नए या बगैर लाइसेंस के उत्पादों के इस्तेमाल की मंजूरी दी जाती है ताकि स्वास्थ्य को लेकर उत्पन्न आपातकालीन परिस्थितियों में इसका उपयोग किया जा सके।

WHO के अंतर्गत विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है और तब मंजूरी

स्वामीनाथन ने बताया,’ EUL के लिए एक प्रक्रिया से गुजरना होता है और वैक्सीन की मंजूरी प्राप्त करने के लिए कंपनी को तीन चरणों के ट्रायल का डाटा पेश करना होता है जिसकी जांच WHO के अंतर्गत विशेषज्ञों द्वारा किया जाता है और तब मंजूरी दी जाती है।’ फिलहाल WHO की ओर से कोरोना वैक्सीन फाइजर/बायोएनटेक, एस्ट्राजेनेका-एसके बायो/सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, एस्ट्राजेनेका इयू, जानस्सेन, मॉडर्ना और सिनोफार्म को आपातकाल इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है।

WHO की वैज्ञानिक ने यह भी कहा कि

कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट काफी संक्रामक है। उन्होंने कहा, ‘वैक्सीन की दो खुराक डेल्टा वैरिएंट से बचाव के लिए आवश्यक है लेकिन इसके बावजूद आप संक्रमित हो सकते हैं और इसे फैला सकते हैं। इसलिए मास्क व अन्य सावधानियों को जारी रखना होगा।’ उन्होंने उन कंपनियों का भी जिक्र किया जो वैक्सीन की दो खुराक के बाद बूस्टर डोज की आवश्यकता पर जोर दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी बूस्टर डोज की जरूरत नहीं है और इसकी आवश्यकता एक या दो साल के बाद होगी। वैक्सीनेशन अभियान को संतोषजनक बताते हुए उन्होंने कहा,’ वैक्सीन लेने वालों में 8, 10 या 12 महीनों तक इम्यून रेस्पांस बरकरार देखा गया है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को पहुंचगे उत्तराखंड

Leave a Reply