Joshimath Dismantle : जोशीमठ में मौसम खुलने ही राहत कार्यों ने पकड़ी रफ्तार

7

जोशीमठ : Joshimath Dismantle  सोमवार को मौसम खुलने के साथ जोशीमठ में चल रहे राहत कार्यों ने रफ्तार पकड़ ली है। दो होटलों समेत 19 भवनों की डिस्मेंटलिंग का काम शुरू कर दिया गया है। साथ ही साथ बदरीनाथ हाईवे पर एसबीआइ बैंक के सामने उभरी दरार को मिट्टी डालकर भरने का काम किया जा रहा है।

Blast in jammu : जम्मू में सीरियल ब्लास्ट ,सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा

छह चिह्नित दुकानों को खाली करने के आदेश

पहले चरण में छह ऐसी दुकानें चिह्नित की गई हैं, जिनमें दरारें आ गई थीं। जिन्हें प्रशासन ने खाली करने के आदेश दिए हैं। दुकानों को शिफ्ट करने का कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा अन्य असुरक्षित दुकानों को भी चिह्नित किया जा रहा है।

बदरीनाथ हाईवे पर नई दरार उभरी

बदरीनाथ हाईवे पर एसबीआइ (Joshimath Dismantle) के सामने नई दरार उभरी है, जिसे मिट्टी डालकर भरा जा रहा है। साथ ही, मलारी हाईवे पर चौड़ी हुई दरारों में भी मिट्टी भरकर उन्हें चलने लायक बनाया जा रहा है। उधर, जेपी कालोनी में फूटी जलधारा का प्रवाह भी घटकर 132 एलपीएम रह गया है।

बर्फबारी के चलते रोकना पड़ा था काम

शुक्रवार देर रात बर्फबारी के चलते जोशीमठ में राहत कार्यों की रफ्तार धीमी पड़ गई थी। साथ ही डिस्मेंटलिंग का काम पूरी तरह रोकना पड़ा था। वहीं विपरीत परिस्थितियों में प्रशासन की चुनौतियां भी काफी बढ़ गई थी। शनिवार को मौसम साफ होने पर राहत समेत भवनों को तोड़ने का काम फिर शुरू हुआ। हालांकि बर्फ पिघलने के चलते कार्यों की रफ्तार थोड़ी धीमी रही। लेकिन, रविवार को चटख धूप खिलने के बाद कार्यों ने रफ्तार पकड़ ली।

20 भवनों में से 19 को तोड़ने का काम जारी

आपदा प्रभावित जोशीमठ में डिस्मेंटलिंग के लिए चयनित 20 भवनों में से 19 को तोड़ने का काम चल रहा है। इनमें मलारी इन और माउंट व्यू दो होटलों समेत तीन आवासीय भवन, एक डाक बंगला और जेपी कालोनी के 14 भवन शामिल हैं। जबकि, बीती रोज एक भवन स्वामी ने मुआवजे की मांग करते हुए डिस्मेंटलिंग टीम को लौटा दिया था। होटलों को तोड़ने का काम पहले शुरू हो गया था, जिसके चलते पांच पंजिला मलारी इन और छह मंजिला माउंट व्यू के एक-एक तल (फ्लोर) तोड़े जा चुके हैं।

जेपी कालोनी में फूटी जलधारा का प्रवाह घटा

होटलों का मलबा ट्रक के जरिये बदरीनाथ हाईवे पर सेलंग के पास बने डंपिंग जोन में डाला जा रहा है। उधर, जेपी कालोनी में फूटी जलधारा में भी वर्षा और बर्फबारी के दौरान बढ़ा पानी कम हो गया है। जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने बताया कि शुक्रवार को जहां पानी का डिस्चार्ज 250 एलपीएम था, वह शनिवार को घटकर 136 एलपीएम हो गया। रविवार को पानी का डिस्चार्ज और घटकर 132 एलपीएम हो गया।

एसबीआइ के महत्वपूर्ण दस्तावेज गोपेश्वर शिफ्ट

जोशीमठ में बिगड़ते हालात को देखते हुए स्टेट बैंक आफ इंडिया (एसबीआइ) के महत्वपूर्ण दस्तावेजों को गोपेश्वर शिफ्ट कर दिया गया है। हालांकि बैंक के कर्मचारी अभी भी जोशीमठ कार्यालय में ही काम कर रहे हैं। बैंक भवन में दरारें होने के चलते इसे भी दूसरी जगह शिफ्ट किया जा सकता है।

Latest Uttarakhand News : मुख्यमंत्री धामी से श्री अजेंद्र अजय ने की भेंट

Leave a Reply