सवाल … पहाड में 28 सीटर बस में कराया जा रहा था 55 को सफर, 47 की जान गई … जिम्मेदार कौन?

0
723

रिपोर्ट … page3news.co.in
देहरादून। उत्तराखंड में भीषण सडक दुर्घटना में 47 लोगों की जान चले गई। 28 सीटर बस से 55 लोगों को सफर कराया जा रहा था। गढवाल मंडल के नैनीडांडा ब्लॉक में पिपली-भौन मोटर मार्ग पर यात्रियों से भरी बस अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे में इतनी बडी संख्या में जानमाल के नुकसान से उत्तराखंड के लोग सदमे में हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की है। हादसे के तत्काल बाद ही मुख्यमंत्री ने मुआवजा देने के लिए निर्देशित कर दिया।
जानकारी के अनुसार, दुर्घटना रविवार सुबह करीब 8.45 बजे की है। यात्रियों से खचाखच भरी एक प्राइवेट बस (यूके 12सी 0159) भौन से रामनगर जा रही थी। नैनीडांडा ब्लॉक में पिपली-भौन मोटर मार्ग पर ग्वीन पुल के पास बस अनियंत्रित हो गई और खाई में गिर गई। हादसे में 47 लोगों की जान जाने की सूचना है। वहीं, सूचना पर पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची। टीम ने घायलों को धुमाकोट अस्पताल में भर्ती कराया है और शवों को ग्रामीणों की मदद से निकाला गया। बताया जा रहा है कि बस 28 सीटर है, उसमें संख्या से ज्यादा यात्री सवार थे। बस सड़क से करीब 60 मीटर नीचे संगुड़ी गदेरे (बरसाती नाले) में गिर गई। जिला आपदा कंट्रोल रूम ने हादसे में 47 के जान जाने की बात कही है। कंट्रोल रूम के अनुसार हादसे में जान गंवाने वालों की संख्या बढ सकती है।