Kanjhawala Case : निधि की गिरफ्तारी की खबर झूठी, पुलिस ने किया खंडन

68

नई दिल्ली। Kanjhawala Case  कंझावला केस को लेकर शुक्रवार को दिल्ली पुलिस ने कहा कि अंजलि की दोस्त निधि को गिरफ्तार नहीं किया गया है। पुलिस ने बताया कि उसे जांच के लिए बुलया गया है। सुल्तानपुरी से कंझावाला तक 12 किलोमीटर तक स्कूटर की टक्कर में 20 वर्षीय अंजलि सिंह की मौत हो गई। उसकी दोस्त निधि दुर्घटना के बाद फरार हो गई थी। इस मामले को लेकर CCTV फुटेज देखने के बाद पुलिस ने निधि का पता लगाया। निधि ने मंगलवार को पुलिस को अपना बयान भी दर्ज कराया था।

शहरों में भूमि रखने की अधिकतम सीमा तय करे सरकार

पुलिस ने एक और आरोपित को किया गिरफ्तार

पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि ऐसी खबरें हैं कि निधि को पुलिस ने गिरफ्तार (Kanjhawala Case) कर लिया है। यह स्पष्ट किया जाता है कि उसे जांच में शामिल होने के लिए बुलाया गया है। इससे पहले पुलिस ने इस मामले में एक अन्य आरोपी को गिरफ्तार किया था। आरोपी की पहचान आशुतोष के रूप में हुई है।

कौन है आशुतोष?

आशुतोष उन दो संदिग्धों में से एक है, जिसे पुलिस सीसीटीवी फुटेज और कॉल डिटेल रिकॉर्ड के माध्यम से देख रही थी। अधिकारियों ने बताया कि वह और अंकुश खन्ना आरोपी को बचाने में कथित तौर पर शामिल थे। अंकित खन्ना आरोपी अमित खन्ना का भाई हैं।

दिल्ली के कंझावला कांड का आज छठा दिन है और इसकी जांच अभी तक किसी ऐसे बिंदु पर नहीं पहुंची है जिसे निर्णायक कहा जा सके। बीती रात इस मामले में पुलिस ने छठे आरोपी आशुतोष को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अभी आशुतोष से पूछताछ कर रही है। वहीं इस मामले में एक नया मोड़ भी आ गया है। बताया जा रहा है कि वारदात वाली रात कार में केवल चार लोग सवार थे जबकि पुलिस अब तक पांच आरोपियों के कार में होने की बात कर रही थी। इसके साथ ही पुलिस ने आज मामले की चश्मदीद गवाह निधि को भी थाने बुलाया है।

Air India Peeing Incident: पीड़ित महिला ने बताया- पेशाब से कपड़े, जूता, बैग भीग गया था

Leave a Reply