DFO ने दिए रेंजर को जांच के निर्देश, हरे पेड़ों को काट दिए जाने का मामला

जिले के स्याल्दे ब्लाक में चचरोटी ग्राम पंचायत के बिजोली के जंगल में हरे पेड़ों को काट दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है

0
452

अल्मोड़ा:- DFO ने दिए रेंजर को जांच के निर्देश: जिले के स्याल्दे ब्लाक में चचरोटी ग्राम पंचायत के बिजोली के जंगल में हरे पेड़ों को काट दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है।

जिसकी शिकायत क्षेत्र के लोगों ने जिला प्रशासन, वन विभाग सहित जनप्रतिनिधियों से की है। ग्रामीणों ने कच्चे हरे पेड़ काटने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

ग्रामीणों की शिकायत पर प्रभागीय वनाधिकारी ने मामले की जांच के आदेश दिए है। ग्रामीणों ने कहा है कि ग्राम पंचायत के बिजोली के जंगल में प्रशासनिक कार्रवाई का गलत प्रयोग कर अवैध रुप से कच्चे पेड़ों का कटान कर दिया गया है।

अवैध तरीके से लगभग 350 से अधिक पेड़ काट दिए है। रात्रि में हरे पेड़ों को काटा जा रहा है। कहा कि सूखे पेड़ों को काटे जाने की अनुमति की आड़ में अनेक हरे पेड़ों को भी काट दिया गया है।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों को किया पुरस्कृत

शिकायत मिलने पर प्रभागीय वनाधिकारी (DFO)  ने जौरासी वन क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी को जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जांच में हरे पेड़ों को काटने का मामला सही पाए जाने पर संबंधित वन सरपंच व ठेकेदार पर कार्रवाई की संस्तुति करने को कहा है।

वहीं अग्रिम आदेशों तक चचरोटी वन पंचायत से निकासी को भी स्थगित किया है। इस दौरान नंद किशोर, मथुरा दत्त, विमला देवी, जयंती देवी, कांती देवी, भवानी देवी,प्रकाश चंद्र, योगेश चंद्र, नीमा देवी, किशन चंद्र, हरीश शर्मा, गोपाल दत्त, तारा दत्त, भागुली देवी, पूरन चंद्र आदि शामिल रहे।

Leave a Reply