कोरोना महामारी के चलते इस बार भी रद किए गए हज यात्रियों के आवेदन

0
269

नई दिल्ली। भारत की हज कमेटी ने मंगलवार को आधिकारिक तौर पर हज-2021 यात्रा के लिए आवेदन रद कर दिए हैं। इसके तीन दिन पहले सऊदी अरब ने इस साल की हज यात्रा को कोरोना महामारी के मद्देनजर 60,000 तीर्थयात्रियों तक सीमित कर दिया था।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मानसून सीजन की तैयारियों को लेकर की बैठक

अधिकारी डॉ मकसूद अहमद खान द्वारा इस आशय का एक परिपत्र जारी किया गया

यात्रा को रद किए जाने को लेकर भारत के हज कमेटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ मकसूद अहमद खान द्वारा इस आशय का एक परिपत्र जारी किया गया है। जबकि सऊदी सरकार के इस साल की हज यात्रा को केवल अपने नागरिकों और निवासियों तक सीमित करने के फैसले का जिक्र किया गया है।

आज जारी किए गए पत्र में कहा गया है कि भारतीय हज कमेटी ने फैसला किया है कि हज-2021 के लिए सभी आवेदन रद कर दिए गए हैं।

उत्तराखंड में हज यात्रा को इस बार भी कोरोना महामारी के चलते स्थगित

वहीं, उत्तराखंड में हज यात्रा को इस बार भी कोरोना महामारी के चलते स्थगित कर दिया गया है। इस साल 710 व्यक्तियों ने यात्रा के लिए पंजीकरण कराया था। यहां तक हज जाने के इच्छुक अधिकांश व्यक्ति कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए दोनों वैक्सीन भी लगवा चुके हैं।

हज यात्रा 2021 को लेकर सऊदी अरब ने पिछले दिनों कहा था कि कोरोना वायरस महामारी के चलते इस साल 60 हजार से अधिक लोगों को हज की अनुमति नहीं होगी और वे सभी स्थानीय होंगे। सरकार द्वारा संचालित सऊदी प्रेस एजेंसी पर हज एवं उमरा मंत्रालय का हवाला देते हुए एक बयान में यह घोषणा की गई थी।

बयान में कहा गया है कि

इस साल हज जुलाई के मध्य में शुरू होगा। इसमें 18 से 65 साल की आयु के स्थानीय लोग हिस्सा ले सकेंगे। मंत्रालय ने कहा कि हज यात्रियों के लिए टीका लगवाना अनिवार्य है। बयान में कहा गया है कि सऊदी अरब ने हाजियों के स्वास्थ्य व सुरक्षा और उनके देशों की सुरक्षा के बारे में निरंतर विचार-विमर्श के बाद यह फैसला लिया है।

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से की भेंट

LEAVE A REPLY