कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति पर बोले स्वास्थ्य मंत्री मांडविया

0
232

नई दिल्ली।  कोरोना वैक्सीन को लेकर आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Union Health Minister Mansukh Mandaviya) ने कहा कि केंद्र की ओर से राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को एडवांस में ही जानकारी दे दी जाती है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने ऐसा इसलिए किया है ताकि राज्य सरकारें जिला स्तर तक वैक्सीनेशन का काम सही योजना बनाकर कर सकें और लोगों को कोई परेशानी नहीं हो।

पुष्कर सिंह धामी ने हरेला पर्व पर आयोजित वृक्षदान में किया प्रतिभाग

केंद्र सरकार ने राज्यों को 19 जून, 2021 को ही दे दी थी

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘जुलाई में राज्यों में वैक्सीन के कितनी खुराकें उपलब्ध कराई जाएंगी, इसकी जानकारी केंद्र सरकार ने राज्यों को 19 जून, 2021 को ही दे दी थी। इसके बाद 27 जून व 13 जुलाई को केंद्र की ओर से राज्यों को जुलाई के पहले व दूसरे पखवाड़े के लिए उन्हें हर दिन की वैक्सीन उपलब्धता की जानकारी भी दी गई। इसके बाद राज्यों को यह अच्छी तरह से पता है कि उन्हें कब और कितनी मात्रा में वैक्सीन की खुराक मिलेगी।’

स्वास्थ्य मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘वैक्सीन की 11.46 करोड़ खुराक जून में राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को उपलब्ध कराई गई ताकि सरकार व प्राइवेट अस्पतालों द्वारा वैक्सीनेशन हो सके। जुलाई में यह बढ़कर 13.50 करोड़ हो गई।’ स्वास्थ्य मंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, ‘वैक्सीन की उपलब्धता के संदर्भ में मुझे विभिन्न राज्य सरकारों और नेताओं के बयान एवं पत्रों से जानकारी मिली है। तथ्यों के वास्तविक विश्लेषण से इस स्थिति को बेहतर ढंग से समझा जा सकता है। निरर्थक बयान सिर्फ लोगों में घबराहट पैदा करने के लिए किए जा रहे हैं।’

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा

केंद्र पहले से ही अपनी तरफ से ये जानकारियां दे रही है और इसके बावजूद भी हमें कुप्रबंधन (mismanagement) और वैक्सीन लेने वालों की लंबी कतारें दिख रही हैं तो यह बिल्कुल स्पष्ट है कि समस्या क्या है और इसकी वजह कौन है।’ उन्होंने कहा, ‘मीडिया में भ्रम व चिंता पैदा करने वाले बयान दे रहे नेताओं को इस बात पर आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है क्या उन्होंने शासन प्रक्रिया व इससे सबंधित जानकारियों से इतनी दूरी बना ली है कि वैक्सीन आपूर्ति के संदर्भ में पहले से ही दी जा रही जानकारियों का उन्हें कोई अता-पता नहीं है।’

प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा

Leave a Reply