300 रुपये रोजाना कमाने वाले मजदूर को आयकर विभाग ने थमाया एक करोड़ रुपये का नोटिस

0
226

मुंबई। यहां 300 रुपये रोजाना कमाने वाले एक मजदूर को आयकर विभाग से नोटिस मिला है। मजदूर से विभाग ने एक करोड़ रुपये का भुगतान करने को कहा है।

नाम से बनाया फर्जी अकाउंट

35 साल के भाउसाहेब अहीरे झोपड़पट्टी में रहते हैं। उन्होंने पुलिस में शिकायत की है कि उनके नाम से फर्जी बैंक अकाउंट बनाया गया है। उनके पैन कार्ड का इस्तेमाल कर उसके माध्यम से लेनदेन भी किए जा रहे हैं। अहीरे ने बताया, ‘मुझे आयकर विभाग से खत आया कि 1.05 करोड़ रुपये देने हैं। मुझे मजदूरी करने के बाद हफ्ते में एक बार रुपये मिलते हैं। मैंने कभी एक साथ एक लाख रुपये भी नहीं देखे हैं। यह फर्जीवाड़ा है। मुझे इंसाफ मिलना चाहिए।’

पिछले साल पांच सितंबर को अहीरे को नोटिस आया था और जवाब मांगा गया था कि 58 लाख रुपये उसके अकाउंट में कैसे आए? नोटिस के मुताबिक, अहीरे के नाम से खुले अकाउंट से 2016-17 में 5000-1000 के नोटों में 21,10,000 रुपये निकाले गए।

छह हजार रुपये वेतन वाले को आयकर की ओर से 3.49 करोड़ रुपये का नोटिस

भिंड। मध्य प्रदेश में भिंड जिले के रवि गुप्ता को आयकर विभाग ने 3.49 करोड़ रुपये टैक्स जमा करने को लेकर नोटिस जारी किया है। यहां हैरान करने वाली बात यह है कि वह महज छह हजार रुपये महीने कमाते हैं। नोटिस मिलने के बाद रवि ने छानबीन की तो पता चला कि उनका पेन कार्ड और फोटो उपयोग कर हीरा कंपनी का मालिक बताकर खाता खुलवाया गया है। उनके नाम से मुंबई की एक्सिस बैंक में फर्जी तरीके से खाता खोलकर एक साल में 132 करोड़ रुपये का लेनदेन किया गया है।

रवि ने सीबीआइ, महाराष्ट्र पुलिस, ग्वालियर क्राइम ब्रांच में मामले की शिकायत की है। आयकर विभाग को भी बताया है कि उसके नाम से फर्जी खाता खोला गया है। रवि का कहना है, जब यह अकाउंट खोला गया तब उनकी तनख्वाह महज छह-सात हजार रुपये ही थी।

यह है मामला

रवि गुप्ता पुत्र रामप्रकाश गुप्ता वर्तमान में लुधियाना (पंजाब) की कोचर इंफोटेक कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर हैं। रवि के मुताबिक, उन्हें मेल पर पहली बार 30 मार्च 2019 को आयकर विभाग की ओर से नोटिस दिया गया था। इसमें बताया गया था कि आपके अकाउंट से करोड़ों का लेनदेन हुआ है। रवि का कहना है कि उन्होंने इस नोटिस को गंभीरता से नहीं लिया। दूसरा नोटिस आया तो उसमें बताया गया कि आपने हीरा कंपनी टिया ट्रेडर्स के जरिये लेनदेन किया है।

रवि ने जवाब दिया कि उनकी इस तरह की कोई कंपनी नहीं है। तीसरा नोटिस आया तो रवि लुधियाना से छुट्टी लेकर आयकर विभाग ग्वालियर के अधिकारियों के पास पहुंचे। अधिकारियों ने बताया कि आपके अकाउंट से करोड़ों का ट्रांजेक्शन हुआ था। इसका टैक्स जमा होना है। रवि ने स्टेटमेंट निकलवाया तो मालूम हुआ कि वर्ष 2011-12 में खाता खोलकर 132 करोड़ का लेनदेन किया गया है। एक जनवरी को रवि को आयकर से मिले नोटिस में उनसे 17 जनवरी तक टैक्स की रकम जमा करने के लिए कहा गया है।

LEAVE A REPLY