Babul Supriyo: ने राजनीति से संन्यास लेने का किया एलान

0
384

कोलकाता: Babul Supriyo: बंगाल के आसनसोल से भाजपा के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को राजनीति से संन्यास लेने का एलान कर दिया। उन्होंने फेसबुक पर लिखी एक पोस्ट में अपने ‘मन की बात’ साझा की है। उन्होंने लिखा कि अलविदा। मैं किसी राजनीतिक दल में नहीं जा रहा हूं। टीएमसी, कांग्रेस, सीपीआइ (एम) में से किसी ने मुझे नहीं बुलाया है, मैं कहीं नहीं जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि वे राजनीति में सिर्फ समाज सेवा के लिए आए थे, अब उन्होंने अपनी राह बदलने का फैसला लिया है।

Uttarakhand CM: ने किया 127 ईको बटालियन का फ्लैग ऑफ

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि वह हमेशा से भाजपा का ही हिस्सा रहे हैं और रहेंगे

उन्होंने कहा कि लोगों की सेवा करने के लिए राजनीति में रहने की जरूरत नहीं है। वे राजनीति से अलग होकर भी अपने इस उद्देश्य को पूरा कर सकते हैं। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि वह हमेशा से भाजपा का ही हिस्सा रहे हैं और रहेंगे। साथ ही कहा कि उनके इस फैसले को ‘वो’ समझ जाएंगे।

केंद्रीय मंत्रिमंडल से हटाए जाने के बाद से ही बाबुल नाराज बताए थे

बाबुल सुप्रियो ने अपनी पोस्ट में कहा कि मैं हमेशा एक टीम का खिलाड़ी रहा हूं। हमेशा एक टीम को सपोर्ट किया है- मोहनबागान। एक ही पार्टी का समर्थन किया है- भाजपा। उल्लेखनीय है कि हाल में केंद्रीय मंत्रिमंडल से हटाए जाने के बाद से ही बाबुल नाराज बताए जा रहे थे। पिछले कुछ दिनों से बाबुल की चुप्पी और भाजपा में उनकी कम होती भूमिका पर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे थे। अब उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट के जरिए उन तमाम विवादों पर विराम लगा दिया है।

लंबे समय से पार्टी छोड़ना चाहते थे

Babul Supriyo:  ने यह भी कहा कि पार्टी संग मेरे कुछ मतभेद थे। वो बातें चुनाव से पहले ही सभी के सामने आ चुकी थीं। विधानसभा चुनाव में हार के लिए मैं भी जिम्मेदारी लेता हूं,लेकिन दूसरे नेता भी जिम्मेदार हैं। बाबुल ने इस बात का भी जिक्र किया है कि वे लंबे समय से पार्टी छोड़ना चाहते थे। वे पहले ही मन बना चुके थे कि अब राजनीति में नहीं रहना है। लेकिन भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के रोकने की वजह से उन्होंने अपने उस फैसले को हर बार वापस लिया। लेकिन अब क्योंकि उनके कुछ नेताओं संग मतभेद होने शुरू हो गए थे और तमाम विवाद भी जनता के सामने आ रहे थे, ऐसे में उन्होंने राजनीति छोड़ने का फैसला ले लिया। बाबुल सुप्रियो मोदी मंत्रिमंडल में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्‍य मंत्री थे।

Sewing Courses 2021 बंद सिलाई प्रशिक्षण फिर चालू

Leave a Reply