डेरा चीफ राम रहीम को सजा सुनाने के लिए जेल में लगेगी कोर्ट

0
223

चंडीगढ़. यौन शोषण मामले में दोषी डेरा चीफ राम रहीम को सजा सुनाने के लिए रोहतक की सोनारिया जेल में ही कोर्ट लगाई जाएगी।एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, हरियाणा और पंजाब हाईकोर्ट ने जेल में ही सभी व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं। इससे पहले सरकार ने कहा कि राम रहीम के डेरा में सेना दाखिल नहीं हुई है।

चीफ सेक्रेटरी डीएस ढेसी ने कहा कि सेना सिरसा पहुंच चुकी है, लेकिन डेरा के अंदर दाखिल नहीं हुई। उसने डेरा को बाहर से बेरिकेड्स किया है। बता दें कि शुक्रवार को राम रहीम के रेप केस में दोषी होने का फैसला आने के बाद 15 शहरों में हुई हिंसा में 31 लोगों की मौत हो गई थी।

राम रहीम को रोहतक जेल में रखा गया है। 28 अगस्त को कोर्ट इस मामले में सजा सुनाएगा। सीएस ने कहा- डेरा समर्थकों पर देशद्रोह के 2 मामले दर्जl

आर्मी अभी तक डेरा के अंदर नहीं गई

इससे पहले मीडिया में यह खबरें आ रही थीं कि सेना ने डेरा को अंदर घुसकर अपने कब्जे में लिया है। ढेसी ने बताया कि मारे गए सभी लोग डेरा समर्थक थे। वहीं, सरकार ने राम रहीम को दी गई जेड प्लस सिक्युरिटी हटा दी। उधर, आर्मी 33 डिवीजन हिसार के जीओसी, राजपाल पुनिया ने बताया कि आर्मी अभी तक डेरा के अंदर नहीं गई है। अंदर जाने का अभी तक कोई प्लान नहीं है।

हम केवल उसको सैनिटाइज कर रहे हैं

चीफ सेक्रेटरी डीएस ढेसी ने बताया- “10 कॉलम डिप्लॉय किए गए हैं। इनमें से 6 सिरसा में जबकि 4 पंचकूला में तैनात हैं। हम केवल उसको सैनिटाइज कर रहे हैं। डेरा समर्थकों पर देशद्रोह के 2 मामले दर्ज किए गए हैं। डेरा की एक गाड़ी से एक एके-47 राइफल और एक माउजर जब्त की गए हैं। अब तक की हिंसा में 524 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। मारे गए सभी लोग डेरा समर्थक हैं और पंचकूला से बाहर के थे।”

कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दिया जा रहा

चीफ सेक्रेटरी के अनुसार रोहतक के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर (पीटीसी) में बाबा को रखा गया है। नॉर्मल खाना दिया जा रहा है। कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दिया जा रहा है। मीडिया में यह भी खबरें आई थीं कि डेरा प्रमुख को जेल में स्पेशल ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। ऐसा कुछ नहीं है।

हरियाणा डीजीपी (जेल) केपी सिंह ने कहा कि राम रहीम को एक आम कैदी की तरह ट्रीट किया जा रहा है। कोई स्पेशल फैसिलिटी नहीं दी जा रही है।

डेरा पूरी तरह खाली करा लिया गया

उधर, हरियाणा के डीजीपी संधू ने बताया कि सिरसा से आने के लिए काफिले में राम रहीम की पर्सनल सिक्युरिटी साथ थी। कोर्ट के अंदर सिर्फ 5 गाड़ियां ही आने दी गईं। दोषी पाए जाने के बाद बाबा अपनी गाड़ी में जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस को उन्हें अपने साथ सरकारी गाड़ी में लेकर जाना था। इस पर थोड़ी बहस हुई थी।
कैथल कलेक्टर ने कहा कि यहां स्थित डेरा से कुल्हाड़ी, पेट्रोल बम, डंडे बरामद किए गए हैं। डेरा पूरी तरह खाली करा लिया गया है।

सरकार ने कहा- 31 लोगों की मौत

डीएस ढेसी ने बताया कि हिंसा में 31 लोगों की मौत हुई है। इनमें 24 पुरुष, 3 महिलाएं और एक बच्चा शामिल है। 28 लोगों की मौत पंचकूला में और तीन सिरसा में मारे गए।

खट्टर को दिल्ली से समन आने की खबर गलत: अनिल जैन

हरियाणा के बीजेपी इन-चार्ज अनिल जैन से जब यह पूछा गया कि बीजेपी आलाकमान ने सीएम मनोहर लाल खट्टर को समन किया है, तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है। मीडिया में जो खबरें आ रही हैं वह सही नहीं हैं।

उन्होंने बताया कि जो लोग मारे गए हैं वह सभी डेरा समर्थक हैं। डेरा आश्रम सभी सील कर दिए गए हैं। सिरसा स्थित डेरा को खाली करा लिया गया है।

उधर, पूर्व सीएम भूपिंदर सिंह हुड्डा ने कहा- “नैतिकता के आधार पर सीएम खट्टर को इस्तीफा दे देना चाहिए। राज्य में फौरन राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए।

डेरा से निकले शख्स के पास मिली AK-47

सिरसा में डेरे से निकलकर जा रहे एक शख्स से AK-47 मिली। पुलिस ने इसे हिरासत में ले लिया है। पूछताछ की जा रही है। उधर, बाजेका नाके पर चैकिंग के दौरान और भी करीब 10 लोग पकड़े गए।

किसी के पास से माफीनामा जैसे संदिग्ध डॉक्यूमेंट्स तो किसी के पास कुछ खाने-पीने की और चीजें मिली हैं। सभी को हिरासत में ले पूछताछ जारी।

हरियाणा की 30 से ज्यादा विधानसभा सीटों पर राम रहीम का दखल

पंजाब और हरियाणा में चुनाव से पहले हर राजनीतिक दल के नेताओं की आवाजाही बढ़ जाती है। यहां राम रहीम के 50 लाख से अधिक समर्थक हैं। दलितों में इसकी मजबूत पकड़ है। माना जाता है कि राम रहीम जिस पार्टी की तरफ इशारा करते हैं, उसके समर्थक उसी ओर जाते हैं।

राम रहीम का हरियाणा के नौ जिलों की करीब 30 से ज्यादा सीटों पर दखल है। इस बार डेरा ने भाजपा का समर्थन किया था। 12 से ज्यादा सीटों पर जीत मिली।इससे पहले के चुनाव में बीजेपी इनमें से सिर्फ भिवानी सीट पर ही जीती थी। सूबे में इससे पहले डेरा इनोलो और कांग्रेस की जीत में अहम भमिका अदा कर चुका है।

जानें- राम रहीम केस

जो गुमनाम चिट्ठी से शुरू हुआ

अप्रैल 2002 में पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट और तब के पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए शिकायत भेजी। लेटर के फैक्ट्स की जांच का जिम्मा सिरसा के सेशन जज को सौंपा गया। सीबीआई को जांच के निर्देश दिए गए। 2005-2006 के बीच में सतीश डागर ने इन्वेस्टिगेशन की और उस साध्वी को ढूंढा जिसका यौन शोषण हुआ था।

जुलाई 2007 में सीबीआई ने अंबाला सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट फाइल की। यहां से केस पंचकूला शिफ्ट हो गया। बताया गया कि डेरे में 1999 और 2001 में कुछ और साध्वियों का भी यौन शोषण हुआ, लेकिन वे मिल नहीं सकीं।

दिसंबर 2002 में सीबीआई ब्रांच ने राम रहीम पर धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया। 25 अगस्त 2017 को इस मामले में फैसला आया।

फैसला

यौन शोषण मामले में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप सिंह ने डेरा चीफ राम रहीम को दोषी करार दिया। सजा 28 अगस्त को सुनाई जाएगी। 15 साल बाद इस मामले पर फैसला आया। सीबीआई वकील के मुताबिक, राम रहीम को कम से कम 7 साल की सजा सुनाई जाएगी। इसे बढ़ाकर उम्रकैद भी किया जा सकता है।

नुकसान

फैसले के बाद 6 राज्यों पंजाब, हरियाणा, यूपी, दिल्ली, राजस्थान और झारखंड में हिंसा हुई। इसमें 32 लोगों की जान गई और 250 से ज्यादा घायल हुए। 350 ट्रेनें रद्द कर दी गईं। सिर्फ पंचकूला में 28 मौतें हुईं। सैकड़ों गाड़ियां जला दी गईं। सरकारी दफ्तरों में भीड़ घुस गई। मीडिया की ओबी वैन भी जला दी गईं।

भरपाई

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा की संपत्ति की जानकारी मांगी है। कोर्ट ने कहा कि हिंसा से हुए नुकसान की भरपाई डेरा सच्चा सौदा से करवाई जाएगी। हरियाणा सरकार ने भी कहा कि नुकसार की सारी भरपाई राज्य सरकार करेगी। हरियाणा के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राम निवास ने कहा कि मीडिया को हुए नुकसान की भी भरपाई करवाएंगे।

जाट आंदोलन और रामपाल मामले में भी फेल हो गई थी हरियाणा की खट्टर सरकार

जाट आंदोलन : 8 जिले झुलसे, 30 से अधिक मौतें, 25 हजार करोड़ का नुकसान
जाट आंदोलन से भी निपटने में सरकार नाकाम रही थी। रोहतक में आंदोलनकारी हिंसक हो गए और सरकार को पता भी नहीं चला। इस हिंसा में 8 जिले झुलस गए थे। 30 से अधिक मौतें हुई थी। आंदोलकारियों ने करोड़ों की सरकारी और निजी संपत्ति में आग लगा दी थी। महिलाओं के साथ दुष्कर्म की भी खबरें आईं थीं। करीब 25 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।

रामपाल की गिरफ्तारी : दो हफ्ते लगे थे आश्रम से बाहर निकालने में, 6 की मौत

खुद को स्वयंभू संत घोषित कर चुके रामपाल की गिरफ्तारी पर भी हरियाणा सरकार सख्ती से नहीं निपट पाई थी। करीब दो सप्ताह तक रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच तनावपूर्ण माहौल रहा था। बाद में उसे सतलोक आश्रम से गिरफ्तार किया गया। इस दौरान आश्रम में मौजूद रहे छह लोगों की मौत हो गई थी। रामपाल पर अदालत की अवमानना का मामला था।

खट्टर को दिल्ली से समन आने की खबर गलत

हरियाणा के बीजेपी इन-चार्ज अनिल जैन से जब यह पूछा गया कि बीजेपी आलाकमान ने सीएम मनोहर लाल खट्टर को समन किया है, तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है। मीडिया में जो खबरें आ रही हैं वह सही नहीं हैं।
उन्होंने बताया कि जो लोग मारे गए हैं वह सभी डेरा समर्थक हैं। डेरा आश्रम सभी सील कर दिए गए हैं। सिरसा स्थित डेरा को खाली करा लिया गया है।

LEAVE A REPLY